26 january ki shayari in hindi, 26 january shayari

26 january ki shayari in hindi

दोस्तो हम आपके लिए 26 जनवरी (गणतंत्र दिवस) की शायरी लेकर आये है, जो आपको बहुत पसंद आएगी, इन शायरी को अपने दोस्तों के साथ शेयर करके उन्हें विश जरूर करे।

अलग है भाषा, धर्म जात और प्रांत,
पर हम सब का एक है गौरव राष्ट्रध्वज तिरंगा श्रेष्ठ।
सभी देशवासियों को गणतंत्र दिवस की हार्दिक बधाई!

26 january ki shayari in hindi, 26 january shayari


26 january shayari


आओ झुक कर सलाम करे उनको,
जिनके हिस्से में ये मुकाम आता है,
खुशनसीब होता है वो खून जो देश के काम आता है…..!!

26 january desh bhakti shayari in hindi


आज शहीदों ने है तुमको, अहले वतन ललकारा,
तोड़ो गुलामी की जंजीरें, बरसाओ अंगारा,
हिन्दू-मुस्लिम-सिख हमारा, भाई-भाई प्यारा,
यह है आजादी का झंडा, इसे सलाम हमारा ||
Indian Republic day 2019 की शुभकामनाये.

26 january ki shayari in hindi, 26 january shayari


best shayari on 26 january in hindi


आजादी का जोश कभी कम न होने देंगे
जब भी जरुरत पड़ेगी देश के लिए जान लूटा देंगे
क्योंकि भारत हमारा देश है
अब दोबारा इस पर कोई आंच न आने देंगे
|| जय हिन्द ||
||…Happy Republic Day 2019….||

26 january desh bhakti shayari


इंसाफ की डगर पे, बच्चो दिखाओ चल के,
ये देश है तुम्हारा, नेता तुम ही हो कल के ||

26 january wishes in hindi


इतनी सी बात हवाओ को बताये रखना,
रौशनी होगी विरागो को जलाए रखना,
लहू देकर की है जिसकी हिफाजत हमने,
ऐसे तिरंगे को हमेशा अपने दिल में बसाए रखना ||
जय हिन्द जय भारत….

26 january ki shayari in hindi, 26 january shayari


26 january wishes


खुशनसीब है वो जो वतन पर मिट जाते है,
मर कर भी वो लोग अमर हो जाते हैं,
करता हूँ उन्हें सलाम ए वतन पर मिटने वालों
तुम्हारी हर साँस में बसता तिरंगे का नसीब है ||

26 january wishes in hindi


गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनायें ।
| जय हिन्द , जय भारत ।
|| वन्दे मातरम ||

26 january thought in hindi


चलो फिर से आज वो नजारा याद करले,
चलो फिर से आज वो नजारा याद करले,
शहीदों के दिलो में थी जो वो ज्वाला याद करले,
जिसमे बहकर आजादी पहुची थी किनारे पे,
जिसमे बहकर आजादी पहुची थी किनारे पे,
देशभक्ति के खून की वो धारा याद करले ||

26 january thoughts


चलो फिर से खुद को जगाते है,
अनुशासन का डंडा फिर घुमाते है,
सुनहरा रंग है गणतंत्र का शहीदों के लहू से,
ऐसे शहीदों को हम सब सर झुकाते है…

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ